Home / Ayurvedic Treatment / Common Health Problems / हृदयाघात तथा गर्म पानी पीना
heart problems and home remedies available in ayurveda

हृदयाघात तथा गर्म पानी पीना

❤ हृदयाघात तथा गर्म पानी पीना ❤

यह भोजन के बाद गर्म पानी पीने के बारे में ही नहीं हृदयाघात के बारे में भी एक अच्छा लेख है। चीनी और जापानी अपने भोजन के बाद गर्म चाय पीते हैं, ठंडा पानी नहीं। अब हमें भी उनकी यह आदत अपना लेनी चाहिए। जो लोग भोजन के बाद ठंडा पानी पीना पसन्द करते हैं यह लेख उनके लिए ही है।

भोजन के साथ कोई ठंडा पेय या पानी पीना बहुत हानिकारक है क्योंकि ठंडा पानी आपके भोजन के तैलीय पदार्थों को जो आपने अभी अभी खाये हैं ठोस रूप में बदल देता है। इससे पाचन बहुत धीमा हो जाता है। जब यह अम्ल के साथ क्रिया करता है तो यह टूट जाता है और जल्दी ही यह ठोस भोजन से भी अधिक तेज़ी से आँतों द्वारा सोख लिया जाता है। यह आँतों में एकत्र हो जाता है। फिर जल्दी ही यह चरबी में बदल जाता है और कैंसर के पैदा होने का कारण बनता है।

आ सकता है हार्ट अटैक
कई लोगों की आदत होती है कि ठंड़ा पीनी अधिक पीते है, लेकिन सतर्क हो जाइए। ये आपके दिल के लिए सही नहीं है। इससे आपको हार्ट अटैक आ सकता है। एक रिसर्च के मुताबिक जो लोग ठंडा पानी पीते है उन्हें हार्ट अटैक आने का आशंका अधिक होती है। और जो लोग खाना खाना खाने के बाद चाय पीते हैं। उन्हें हार्ट अटैक आने की समस्या न के बराबर होती है।

इसलिए सबसे अच्छा यह है कि भोजन के बाद गर्म सूप या गुनगुना पानी पिया जाये। एक गिलास गुनगुना पानी सोने से ठीक पहले भी पीना चाहिए। इससे खून के थक्के नहीं बनेंगे और आप हृदयाघात से बचे रहेंगे।

“एक हृदय रोग विशेषज्ञ का कहना है कि यदि इस संदेश को पढ़ने वाला प्रत्येक व्यक्ति इसे १० लोगों को भेज दे, तो वह कम से कम एक जान बचा सकता है” 

एक शोध के अनुसार ये बात सामने आई कि खाना खाने के बाद ठंड़ा पानी पीने से इसका असर सीधे आपके पित्ताशय में होता है। जो कि बहुत ही हानिकारक है। हमारे शरीर का नार्मल तापमान 37 डिग्री सेल्सियस होता है। इसलिए हमारे शरीर के लिए 20-22 डिग्री सेल्‍सियस तापमान का पानी ठीक है। इससे ज्यादा ठंडा पानी नहीं पीना चाहिए।

जब आप ठंड़ा पानी पीते है तो उसे निगलने में थोड़ा समय लगता है, क्योंकि पहले पानी मुंह में ही रहता है जब उसका तापमान सामान्य हो जाता है, तभी गला उसे नीचे उतारता है और अधिक समय तक ठंडा पानी पीते रहने से टॉन्सिल्स की समस्या उत्पन्न होती है। जानिए खाना खाने के बाद ठंडा पानी पीने से क्या नुकसान है।

बलगम की समस्या
खाने के बाद ठंडा पानी पीने से यह शरीर में बलगम बनाता है। जब शरीर में ज्यादा बलगम बनने लगता है तो आपकी प्रतिरोधक क्षमता कम होने लगती है जिसकी वजह से जुकाम होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए खाने के बाद कभी भी ठंडा पानी ना पिएं। सामान्य पानी या पानी को थोड़ा सा गर्म कर लें फिर पीएं।

हो सकती है कब्ज की प्राब्लम
जब आप ठंडा पानी पीते है तो इससे हमारे पाचन तंत्र में इफेक्ट पड़ता है। जिसके कारण भोजन पचने में कठिनाई होती है। साथ ही इस पानी से आपकी आंते सिकुड़ जाती है। जिसके कारण आपको कब्ज की समस्या हो सकती है। इसलइए हमेशा ठंडा पानी पीने से बचना चाहिए।

मोटापा बढाएं
अगर आप ठंडा पानी का सेवन करते है तो आपकी पाचन तंत्र में इफेक्ट पड़ता है। जिसके कारण पाचन की क्रिया धीमी हो जाती है। और आपको कब्ज की समस्या हो जाती है। जिससे आपके पेट में एसिड बनने लगती है। जिसके कारण आपको मोटापा सहित कई गंभीर बीमारियों का सामना करना पडता है।

ऐसे पिएं ठंडा पानी
अगर आप खाने के बाद ठंडा पानी पी रहें हैं तो, जल्दी जल्दी पीने की जगह धीरे-धीरे घूंट भरें। खाने को अच्छे से चबा कर खाएं और शांत माहौल में ही खाएं। जब भी आप खाने के बाद ठंडा पीनी पिएं और जब सामान्य पानी पीएं तो शरीर में होने वाले परिवतर्न तो महसूस करें।

Dr. Anil Kumar ( Patanjali Ayurvedic Chikistsalaya)
Vivek Vihar
New Delhi

About Dr. Anil

Dr. Anil Kumar is an experienced Ayurveda and herbal physician. With more than 15 years of practice in Ayurvedic & herbal medicines, he has made many successful stories to share with you. The focus of his clinical practice is to ensure the suitability, tolerance, efficacy, and safety of natural, ayurvedic and herbal medicines. Through website Aayurclinic.in, he shares his clinical experience and wisdom about natural, Ayurveda and herbal science for helping people as well as doctors to understand the conditions better, When, where and how to use the herbal medicine very effectively.

Check Also

5 Plants For Your Bedroom To Help You Sleep Better

Most of us would turn to conventional sleeping pills, warm milk, soothing music, and the …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *